Mirror | NCR | [email protected] | Non | Non

12 subscriber(s)


7/16/2020 Shazia Culture Views 114 Comments 0 Analytics Hindi DMCA
"ब्रा ही तो है यार"
"ब्रा ही तो है यार"

जिसे देख तुमने उठाई शर्म की दीवार , 
एक लड़की के चरित्र को बताया दागदार , 
ये तो बस एक साधारण सी ब्रा है दोस्त , 
सब पर मत थोपो अपने खोखले संस्कार !

जिसके नाम से टपकाते हो लार , 
वो तो है नारी का एक श्रृंगार , 
ब्रा को इज्ज़त से मत जोडो 
ये बस एक वस्त्र है मेरे यार !

अगर तुम कपड़े के एक टुकड़े को 
बताते हो हवस का ज़िम्मेदार , 
तो दोस्त तुम दिमाग से हो बीमार , 
ब्रा हर महिला पहनती है , 
ऊँचे रखो तुम अपने विचार !

मर्द की बनियान दिखे तो वाह वाह , 
औरत की ब्रा दिखे तो धिक्कार , 
सोचता हूँ ऐसी सोच वालों को 
निकालकर मारूं जूते चार !

माँ पहनती है , बहन पहनती है 
इसे पहनता है पूरा संसार , 
पर कुछ गंवारों ने ब्रा को बना लिया 
कीचड़ उछालने का हथियार !

औरत की छाती निहारने वाले होते 
हैं बेइज्ज़ती के असली हक़दार , 
तुम खुद भी ब्रा लाकर दे सकते हो 
जो करते हो तुम उनसे प्यार !

किसी के पहनावे पर टोकने का 
किसी को भी नहीं है अधिकार , 
ब्रा को लेकर ताना मत कसो 
ना करो किसी औरत को शर्मसार !

आज किसी की ब्रा को देखकर 
तुम करते हो गंदे शब्दों की बौछार , 
कल तुम्हारी बहन बेटी पर उंगली उठेगी 
तो तुम्हें कैसा महसूस होगा बरखुरदार ?

अभी से तुम हो जाओ ख़बरदार , 
अपने आपको मौका दो एक बार , 
ब्रा को देखो बस एक कपड़े की तरह 
अब तुम ले आओ ख़ुद में सुधार !

नारी एक रूप अनेक