The Latest | India | [email protected]

55 subscriber(s)


K
11/04/2024 Kajal sah Inspiration Views 81 Comments 0 Analytics Video Hindi DMCA Add Favorite Copy Link
कविता : प्रेम -सुधा

ओ बनवारी कृष्ण मुरारी
मुरली मधुर बजा रहे हो
अपनी खिली मुस्कान से
गोपियों को लुभा रहे हो
अपने नैनन से प्रेम -सुधा बहा रहे हो।
कैसे जिक्र करूं तुम्हारे स्वांग का
हर भक्तों का हृदय खिल जाता है
हर अभिलाषा तेरी कृपा से पूर्ण हो जाती है
ओ मनमोहन कृष्ण मुरारी
कैसी प्रेम -सुधा बहा रहे हो।

कभी न उदास करना मेरे श्याम
हे मेरे कान्हा, हे मेरे श्याम
हर कोने में करो प्रकाश
तरसे मेरी नैना, मिले न चैना
अँधियारी हर पगडंडी से
तुम्हीं ने मुझे संभाला है
हर पीड़ा से बचाया है।

दुख को भुला हंसती रहूं
तेरा ही नाम जपती रहूं
संवाला रंग बड़ा मनमोहन
मोहनी -सी मुस्कान है तेरी
कैसे  मैं नजर हटाऊं
ओ बनवारी कृष्ण मुरारी
कैसी मुरली बजा रहे हो
प्रेम -सुधा बरसा रहे हो।

धन्यवाद
काजल साह
                             

Related articles

 WhatsApp no. else use your mail id to get the otp...!    Please tick to get otp in your mail id...!
 





© mutebreak.com | All Rights Reserved