The Latest | India | [email protected]

55 subscriber(s)


K
10/03/2023 Kajal sah General Views 105 Comments 0 Analytics Hindi DMCA Add Favorite Copy Link
निबंध :होली का उत्सव कैसे मनाया गया?
जैसे कि हम जानते है होली एक ऐसा त्यौहार है जिसके रंग में सब रंग जाते है और इस त्यौहार बड़े जोशों के साथ मनाया जाता है, मुझें होली का त्यौहार बेहद पसंद है क्युकी यह त्यौहार मन, ह्रदय और एकता से जुड़ा त्यौहार है।
मैं कोलकाता की निवासी हूँ, होली पुरे भारत में बड़े उत्साह के संग मनाया जाता है। होली के उत्सव इस वर्ष 2023 को बड़े उमंग से मनाया गया,इस वर्ष होली में रंगों के साथ शत्रुता का अंत हुआ। सुबह - सुबह लगभग 4 बजे सभी लोगों के घरों में पकवान बनाने की विधि और घरों से स्वादिष्ट - स्वादिष्ट खुशबू आना  शुरु हों जाता है,जों बच्चें 9 बजे उठते थे, जिसे बिस्तर पर उठाने से भी नहीं उठते थे, लेकिन होली के त्यौहार में सभी बच्चें 5 बजे तक उठ जाते है और होली की तैयारी में व्यस्त हों जाते है।
सारे बच्चों का प्रिय त्यौहार यह एकता, प्रेम का त्यौहार होली बेहद पसंद है, क्युकी इस त्यौहार में बच्चें नए - नए योजनाओं के साथ रंगों से खेलते है और एक - दूसरे को लगाते है।

कोलकाता का होली मुझें क्यों पसंद है?
1. विभिन्न धर्म और जाति का सुंदर मेल
2. स्वादिष्ट पकवानों की ढ़ेर
जैसे - पुआ, पौकड़ा, लस्सी, मिठाई, विभिन्न प्रकार के सब्जियाँ इत्यादि
3. बच्चें से बड़े सभी आनंदित
4. मटका फोड़ की विधि
5. शाम के समय भजनों और पुरानी कथाओं बच्चें  से बड़ो के लिए
6. शाम के समय अबीरो का बड़ा आयोजन
7. पुराने गीतों और नए गीतों के साथ होली मनाना 
इत्यादि।

होली मुझें बेहद प्रिय त्यौहार लगता है और इस त्यौहार के लिए मैं हर वर्ष मैं इंतजार करती हूँ, मुझें रंगों से ज्यादा अबीरो के संग खेलना पसंद है।
होली में विभिन्न प्रकार के रंग लगाएं जाते है और उन रंगों को मिटाने के लिए सभी परेशान हों जाते है?
 इन कठिन रंगों को मिटाने का निम्नलिखित उपाए :

1.खीरे के रस के संग गुलाब जल का उपयोग करें 
2.मूली का रस निकाल कर उसमें दूध व बेसन या मैदा मिलाकर पेस्ट बनाकर उपयोग करें
3.नींबू का रस और बेसन का उपयोग करें
4.जौ का आटा और बादाम तेल का उपयोग करें
5.संतरे के छिलके व मसूर दाल को दूध में पीसकर पेस्ट बनाकर उपयोग करें
इत्यादि।
होली साल में आने वाला एक बार त्यौहार है इसलिए सारे गमों, सारे दुःख, और सारे दुश्मनीयों को भूलाकर रंगों के रंग में रंग जाइये और सभी से मित्रता करके मानवता का पहचान बनिए।
धन्यवाद : काजल साह : स्वरचित
                             

No article(s) with matching content

 WhatsApp no. else use your mail id to get the otp...!    Please tick to get otp in your mail id...!
 




© mutebreak.com | All Rights Reserved