The Latest | India | [email protected]

55 subscriber(s)


K
19/12/2023 Kajal sah Relationship Views 352 Comments 0 Analytics Video Hindi DMCA Add Favorite Copy Link
"ढाई अक्षर का शब्द "
"प्रेम " ढाई अक्षर का शब्द है, लेकिन इस शब्द में वह हर ख़ुशी समाहित है, जिससे मानव सदैव खुश हो पाता है। प्रेम जिसके अनेक पर्यायवाची है- अनुराग, प्यार, मोहब्बत इत्यादि। क्या केवल किसी व्यक्ति को कहा देने से कि" मैं  तुमसे / आपसे बहुत प्रेम करता / करती हूँ या I love you कह देने से क्या वास्तविक में इसे प्रेम कहेंगे? उत्तर हैं नहीं। जो प्रेम सूरत, तन और धन देखकर हो। वास्तविक वह प्रेम नहीं वह सौदा है।
भगवत गीता में श्री कृष्ण जी ने सन्देश दिया - मानव शरीर नश्वर जिसका विलय होना तय है। लेकिन फिर भी मनुष्य सांसारिक मोह - माया में इस प्रकार से जकड़ गया हैं। जैसे : कोई शिकारी अपने शिकार को जकड़ता है।
श्री कृष्ण के वाणी का मेरे जीवन में व्यापक प्रभाव बड़ा है, इसलिए मैं अत्यधिक किसी से प्रेम या लगाव नहीं रखती हूँ। लेकिन अगर दूसरा पक्ष देखा जाये तो मनुष्य सामाजिक प्राणी है, जिससे समाज में सभी के साथ मिलजुलकर रहना पड़ता है।मनुष्य समाज से अलग नहीं हो सकता हैं।
जीवन में आपका सच्चा साथी, प्रेमी / प्रेमिका, हमदर्द केवल एक हैं -वह है भगवान जी। इसलिए भगवान पर भरोसा रखे और निरंतर मेहनत करे।प्रभुपाद जी ने   अपनी पुस्तक में लिखा था - हम भगवान के बच्चे हैं, जिस प्रकार माता -पिता के गुण बच्चों में ट्रांसफर होता हैं, ठीक उसी प्रकार भगवान के गुण भी मनुष्य में ट्रांसफर होता है। भगवान  के गुण किसी में थोड़ा ज्यादा और किसी में अल्प मिलते है।
अगर आप अपने जीवन में सच्चे साथी के तलाश में है? आज मैं आपको  सच्चे साथी के कुछ प्रमुख क्वालिटीज को बताऊंगी, जिससे आप अच्छे से जानकर अपने साथी का तभी चयन करे। क्युकी साथी यानि जो हमेशा आपके साथ रहे। जो आपके सुख, दुख, परेशानी,अनुभव इत्यादि में आपके लिए हमेशा पेड़ की वह सशक्त जड़ बनकर रहे, जो हर कठिनाइयों के बाद भी पेड़ का साथ कभी नहीं छोड़ती है।
निम्नलिखित टिप्स :
1. संचार : उचित भाषा संचार एक ऐसा माध्यम है, जिससे लोग शीघ्र ही आपसे जुड़ पाते है।एक अच्छे साथी में देखा जाता है कि उनका भाषा संचार बहुत ही सरल, सुगम और स्पष्ट होता है।सच्चा साथी हमेशा अपने पार्टनर को सम्मान के साथ उचित भाषा में बातचित करते है।

2. ट्रस्ट :विश्वास एक सशक्त शक्ति है, जो किसी भी रिश्ते को मजबूत और ईमानदार बनाती है। सच्चा साथी वह है, जो अपने पार्टनर पर अपना हक स्थापित ना करे, बल्कि उन्हें स्वतंत्र रहने दे। क्युकी प्रेम हक़ स्थापित करना नहीं सिखाता प्रेम स्वतंत्र रहना सिखाता है। अपने साथी पर विश्वास करे, जिससे वे भी आप पर विश्वास करेंगे।
प्रेम = विश्वास + सहानुभूति + ईमानदारी + दया + हिम्मत।

रिस्पेक्ट : प्रेम यानि संगम ( दो दिलो का सम्मानजनक सम्मान )
अपने साथी को जब चाहे अपशब्द बोल देना, अपमान कर देना इत्यादि। और बाद में क्षमा मांग लेना। क्या यह प्रेम है? उत्तर है नहीं। प्रेम एक पवित्र शब्द है, हम जिससे भी प्रेम करते है। चाहे वो बड़ा, हो या छोटा। हमेशा सम्मान, अपने साथी का मान रखना चाहिए। सच्चा साथी वह है जो हमेशा अपने साथी को प्रेम, सम्मान और हमेशा मान हमेशा रखते है।

क्वालिटी टाइम :अपने पार्टनर के  साथ हमेशा क्वालिटी टाइम व्यतीत करे।जब आप अपने पार्टनर के साथ समय व्यतीत करते है, तब आप उनके बातों पर ध्यान दे, उनके साथ हर लम्हा, अपने दुख - सुख इत्यादि सभी को शेयर करे।
यह गलतियां ना करे :
1. बात करते समय ऑय कांटेक्ट बनाये रखे
2. अगर आपके पार्टनर किसी समस्या से ग्रसित है, तो उन्हें सॉल्व करने, उन्हें हिम्मत और उनके साथ सहानुभूति बनाये रखे
3. सही आहार का चयन करे
इत्यादि।

टीमवर्क :जब चुनौती, सहयोग, की जब बात होती है, तब सच्चे साथी हमेशा टीमवर्क की तरह एक - दूसरे का साथ निभाते है। सच्चे रिश्ते में हमेशा पार्टनर एक - दूसरों को आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करते है। सच्चे रिश्ते में हमेशा पार्टनर एक - दूसरे को लक्ष्य तक पहुँचने के लिए धैर्यता, मेहनत, प्रयास, अभ्यास हमेशा अपने पार्टनर को सिखाते है।

मित्रता : मेरी दीदी का शादी हो चूका है। उनके प्रेम का शुरुआत एक स्ट्रांग फ्रेंडशिप के रूप में हुआ था। आज उनके शादी का 2 साल हो चूका है। आज भी उनका सच्चे मित्र और सच्चे साथ के रूप प्रदर्शित है। जब मैं उन दोनों के छोटी - मोटी नोख- जोख, एक - दूसरे को एक साथ में हँसते हुए देखती हूँ। तब मेरा मन बहुत पुलकित, स्नेहता से भर जाता है।

सफलता : जिस प्रकार सच्चे साथी असफलता, परेशानी में आपको हार मानने नहीं देते। ठीक उसी प्रकार  जब आपको सफलता प्राप्त होता है। जिस प्रकार आप अपने सफलता में खुश हो जाते है एवं आपके पार्टनर भी आपके सक्सेस को सेलिब्रेट करते है। सच्चे रिश्ते हमेशा एक साथ एक -दूसरे के सक्सेस को सेलिब्रेट करते है।

ग्रोथ : विकास निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है।सच्चे रिश्ते हमेशा एक - दूसरे को आगे बढ़ाने में साथ देते है। जिससे सफलता का यात्रा बहुत आंनदित, आशापूर्ण और उल्लासपूर्ण हो जाता है। इसलिए हमेशा विकास के पथ पर हमेशा एक - दूसरे का साथ दे।

उपरोक्त के अतरिक्त और भी गुण है, जैसे :पार्टनर को फ्रीडम, ओपन कम्युनकेशन,अप्प्रेसिएशन
एक -दूसरे अपने जीवन के लक्ष्य को साझा करना इत्यादि। यह कुछ तरीका है, जिससे आप सच्चे साथी का चुनाव इन टिप्स के आधार पर कर सकते है।
धन्यवाद
काजल साह
                             

Related articles

 WhatsApp no. else use your mail id to get the otp...!    Please tick to get otp in your mail id...!
 





© mutebreak.com | All Rights Reserved