The Latest | India | [email protected]

55 subscriber(s)


K
16/04/2024 Kajal sah Development Views 311 Comments 0 Analytics Video Hindi DMCA Add Favorite Copy Link
बदलाव
आज सुबह की ही बात है। मैं कुछ सोच रही थी.. कि कैसे मैं अपने स्पीच को क्राफ्ट करूं। तब मैं इंस्टाग्राम पर रील्स देखना.. मैंने स्टार्ट कर दिया। देखते -देखते एक वीडियो मुझे मिला.. जिसमें यह बताया गया कि किसी भी बिज़नेस, पब्लिक स्पीकिंग के लिए स्टोरीटेलिंग जरुरी है। स्टोरी टेलिंग में एक अनुपम शक्ति है.. जिससे आप अपने विचारों को रुचिपूर्ण और उत्साहपूर्ण तरिके से रख पाते है। लोगों में उत्सुकता अत्यधिक रूप असीम ख़ुशी और जिज्ञासा जाग जाती है।
कहानी ऐसी होनी चाहिए जो पाठकों कक भावनात्मक रूप सेंड प्रभावित करती है और उनके अंदर एक स्थायी छाप छोड़ती है। कहानी ऐसी होनी चाहिए.. जो मनोरंजक, रोमांचक, प्रेरक हो सकती है।
आज मैं आपको स्टोरी टेलिंग से संबंधित महत्वपूर्ण टिप्स बताने वाली हूँ.. जिसका आप अपने स्टोरी टेलिंग में कर सकते है। अगर आप अपने स्पीच में पब्लिक स्पीकिंग का उपयोग नहीं कर रहे है.. तब आपको जरूर से जरूर से इस टेक्निक का उपयोग करना चाहिए।

1. हुक : इस संडे की ही बात है.. मैंने अपना वेबसाइट बना लिया है।कंटेंट से रिलेटेड नॉलेज की आवश्यकता थी.. तब मैंने himeesh sir का यूट्यूब पर वीडियो देखा। जिसमें उन्होंने बहुत बारीके से बताया ब्लॉगिंग के बारे में। जब भी आप अपना स्पीच स्टार्ट करे.. तब आपका स्टार्टिंग हमेशा engaging होना चाहिए। अर्थात आप जब शार्ट स्टोरी प्रेजेंट करे.. तब वह स्टोरी रुचिपूर्ण होना चाहिए। जिससे आपके audience में उल्लास अत्यंत जागृत हो जाये।स्टोरी के अलावा अपने स्पीच से सबंधित शायरी, suprise सेंटेंस, फैक्ट इत्यादि।
2.know :मुझे भीम राव जी अम्बेडकर जी की जयंती की तरफ से Hela Unity ने मुझे invite किया था। मैंने सबसे पहले उनसे यह पूछा कि audience में कौन -कौन आ रहे है.. तब उन्होंने audience के बारे में बताया। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि जब भी आपका कही प्रोग्राम है.. तब आप पहले अच्छे से audience के बारे में जानकारी हासिल करे। जैसे कि उन audience में ज्यादा किस age, किस फील्ड अर्थात कार्य उनका, उनकी रूचि इत्यादि। क्युकी जब आपको इन बातों के बारे में ज्ञान हासिल हो जाता है.. तब आपके एक मजबूत कंटेंट और आप उनसे संबंधित स्टोरी बना सकते है। जैसे कि आप जानते है कि लोगों को अपने बारे में सुनना बहुत पसंद है। आपसे लोग अत्यधिक उल्लास और उत्साह के जुड़ जाते है।

सिंपल : आप सभी डॉ विवेक बिंद्रा सर, संदीप माहेश्वरी सर इत्यादि को आप सभी जानते है। जब भी मैं इनका वीडियो देखती हूँ... तब मैंने अक्सर देखा है कि वे हार्ड से हार्ड टॉपिक को सिंपल में बताते है। इनके सिंपल, रुचिपूर्ण कम्युनिकेशन स्किल के वजह से लोग जल्दी इनसे जुड़ पाते है। इनका हर कंटेंट useful होता है। किसी भी विषय को कठिनाई से ना समझाये। हमेशा कोशिश करे.. कि हर कठिन से कठिन टॉपिक्स को सिंपल और क्लियर मैसेज के साथ बताये। किसी ने बिल्कुल सही कहा है कि अगर आप किसी विषय को आपने पढ़ लिया.. लेकिन अगर आप उसे साधारण भाषा में किसी को explain नहीं कर पा रहे है। तब आपने उस टॉपिक को जल्दी ही भूल जायेंगे।इसलिए अपने स्पीच को इजी लैंग्वेज में explain और उदाहरण एवं स्टोरी का उपयोग करे।

कथन :जैसे कि मैंने आपसे कहा कि अगर आपको अपने स्पीच को रुचिपूर्ण बनाना है तो आपको अनिवार्य रूप से स्टोरी का उपयोग करना चाहिए।अगर आप खूद से क्रिएट करके स्टोरी बनाएंगे तब यह बहुत अच्छा होगा। आप रोजाना खुद को चैलेंज कीजिये.. जैसे कि आप रोजाना 2 वर्ड्स ले.. और उस वर्ड्स से संबंधित स्टोरी बनाये। अगर आप रोजाना ऐसे करते है.. तब आपका बहुत अच्छा अभ्यास हो जाता है। आप एक अच्छे स्टोरीटेलिंग के पथ पर अग्रसर होते है। याद रखे स्टोरी को उत्साहपूर्ण बनाने के लिए मजबूत कथन का उपयोग जरूर करे। अच्छे -अच्छे कथन और अपने कहानियों में मजबूत वक्ता को चुने। Dialogue आपका नेचुरल और विश्ववनीय होना चाहिए। आपके स्टोरी में चरित्र के अनुसार ही मजेदार डायलॉग क्रिएट करे।

इमोशनल : अपने स्टोरी में इमोशनल अटैचमेंट को जरूर जुड़े। क्युकी लोग भावना से जल्दी जुड़ जाते है। अगर आपके स्पीच का विषय मोटिवेशन से संबंधित, फेलियर से संबंधित है इत्यादि तब आप अपने स्टोरी में इमोशनल भावना को जरूर जुड़े। इसे आप लोगों से जल्दी जुड़ पाते है और आपके चेहरे के साथ आपके audience के चेहरे में एक भावना उभर आती है। Audience आपको अपना समझ पाते है।

Revision : किसी भी फील्ड में बेहतरीन बनने के लिए मुख्य अंगों में से आवश्यक है revision.सीखना बहुत अच्छी बात है लेकिन जब तक आप उसका revision और अपने जीवन में नहीं उतारते है.. तब वह सीखना व्यर्थ है। कोई भी स्टूडेंट कैसे class में टॉप करता है..वह रोजाना पढ़ाये हुए विषयों का revision करता है। यह निरंतर revision की प्रक्रिया के माध्यम से वह धीरे-धीरे में पढ़ाई में बेहतरीन बनने लगता है। यह आप बिल्कुल ना सोचे कि बिना revision और अभ्यास के आपका स्टोरी अच्छा होगा। आपका स्पीच, आपका इवेंट अच्छा होगा। इसके लिए आपको बहुत दिन पहले से तैयारी करने की आवश्यकता है। आपको कंटेंट कट और एडिट बार -बार करना होगा। यह आपका निरंतर अभ्यास.. निरंतर मेहनत और निरंतर revision की शक्ति से ही आप स्वयं को तैयार कर पाएंगे।

Voice और बॉडी लैंग्वेज : वॉल्यूम और बॉडी लैंग्वेज बहुत महत्वपूर्ण है। आपको अपने वॉल्यूम पर अच्छे से कार्य करने की आवश्यकता है। कहने का अर्थ अपने वॉल्यूम को अपने स्पीच के कंटेंट, स्टोरी के कंटेंट के भाव के समान ही वॉल्यूम पर कार्य करे। कब तेज़.. कब स्लो.. कम मेडियम इत्यादि। यह सभी आपको अपने स्पीच को अच्छे से पढ़ने और समझने के बाद ही मिल पायेगा। अपने स्टोरी के करैक्टर, उनके कथन इत्यादि को अच्छे से समझने के बाद। इसलिए अपने कंटेंट को अच्छे से महसूस करे। साथ ही साथ आप इंटरनेट का जरूर हेल्प ले। आप विभिन्न स्टोरी को सुनिए कि वे किस प्रकार से सुना रहे है। अपने पसंदीदा पब्लिक  स्पीकर के बॉडी लैंग्वेज, वॉल्यूम, कंटेंट इत्यादि को समझे। एक और महत्वपूर्ण बात उनका कॉपी ना करे.. उनसे सीखें। आपके कंटेंट आपका ही स्टाइल आपका ही तड़का होना चाहिए।


अभ्यास : किसी भी फील्ड में बेहतरीन बनने का सशक्त माध्यम है.. अभ्यास। आप जितना ज्यादा अभ्यास करते है... आप अपने पसंदीदा क्षेत्र में बेहतरीन बनने लगते है। इवेंट में जाने से पहले और अपने फील्ड में बेहतरीन 0000.1% ही बेहतर बनने के लिए रोजाना अभ्यास करे। अगर आप एक अच्छा स्टोरी टेलर बनना चाहते है.. तब आपको रोजाना 2 वर्ड्स को लेकर रोजाना वीडियो बनाये। प्रतिदिन स्टोरी को लिखें.. प्रभावशाली करैक्टर चुने.. डायलॉग को क्राफ्ट करे।

फीडबैक : फीडबैक में वह शक्ति है.. जिससे आप अपने कार्य में और बेहतर बन सकते है। अपने कमियों को जानकर..अपने मजबूतीयों को जानकर। इसलिए अपने प्रेजेंटेशन को कम्पलीट करने के बाद फीडबैक जरूर ले। यह फीड वह भोजन की भांति होंगी.. जिससे मिलने आपको एक ऊर्जा और उमंग मिल पायेगी। इसलिए अगर आप पहली बार अपना प्रेजेंटेशन प्रस्तुत करने जा रहे.. तब स्वयं पर विश्वास रखे.. अपने प्रयास और अभ्यास पर।

यह कुछ टिप्स है.. जो आपकी जरूर फॉलो करना चाहिए।अगर आप असफल हो जाये.. तब आपको हार नहीं मानना चाहिए। क्युकी सफलता का मंत्र है कई असफलताओं से सीख। इसलिए हार कभी नहीं माने.. आगे बढ़ते रहे .. अपने मेहनत.. अपने प्रयास और अपने अभ्यास पर विश्वास रखे।

  "वरदान मांगूंगा नहीं
 यह हार एक विराम है
 जीवन महासंग्राम है
तिल -तिल मिटूंगा
लेकिन दया की भीख लूंगा नहीं
वरदान मांगूंगा नहीं"

धन्यवाद
काजल साह
                             

Related articles

 WhatsApp no. else use your mail id to get the otp...!    Please tick to get otp in your mail id...!
 





© mutebreak.com | All Rights Reserved